जी.के.एम.ए.
बिजनेस
डायरेक्ट्री

GKMA BUSINESS DIRECTORY

   

चेहरे पर कील, मुँहासे, झाइयां, दाग, धब्बे

 
 

चेहरे पर दाग व धब्बे

 
 

होम / HOME

 

 
   

चेहरे पर कील, मुँहासे, झाइयां, दाग, धब्बे

चेहरे पर चाहे कैसे भी दाग धब्बे हों ।नारी का व्यक्तित्व दब जाता है । हर सौन्दर्य प्रिय महिला सुन्दरता के इन शत्रुओं से स्वयं को बचाना चाहती है। चेहरे पर दाग कई प्रकार के होते है । जैसे - 1-     सफेद दाग, 2. चेचक के दाग, 3. कील मुहांसे, 4. झुर्रियां

इन शत्रुओं से ग्रसित महिलाएँ अपनी वास्तविक आयु से काफी बड़ी लगने लगती है । इसका सबसे अधिक प्रभाव सीधा चेहरे पर पड़ता है और धीरे-धीरे यह पूरे चेहरे पर फेल जाता है । चेहरे पर कील, दाग, धब्बे आदि रोकने के लिये उपचार करना बहुत जरूरी हैं । आमतौर पर देखा गया कि महिलाएँ अकसर तनावग्रस्त होने के कारण अपनी त्वचा पर ध्यान ही नहीं दे पाती और ऐसी बीमारियों की शिकार हो जाती है । इस स्थिति से बचे रहने के लिये विटामिन सी की कमी को पूरा करना चाहिये और मासिक धर्म आते समय कोई परेशानी हो तो अपने चिकित्सक का परामर्श लेना चाहिये ।

इन बीमारियों का दूसरा कारण एक यह भी है कि स्त्रियाँ बिना जाने पहचाने मेकअप करती है । मेकअप उतना ही करना चाहिये जिससे चेहरा स्वाभाविक लगे । अन्यथा त्वचा के सुराख बंद हो जाने से आंतरिक स्त्राव की प्रक्रिया रुक जाती है । रूकावट के कारण शरीर की गंदगी अंदर ही अंदर सड़कर त्वचा को अनाकर्षक बना देती है ।

चेहरे पर कील का प्रभाव

कील - काली कीलें चेहरे के सौन्दर्य को समाप्त कर देती है इन्हें दूर करने का उपाय अवश्य करना चाहिये । इसमें किसी अच्छे साबुन से चेहरा धोना और भाप देना चाहिये । नींबू के सूखे हुये फूल उबले पानी में मिलाकर भाप देने से अत्यधिक लाभ होता है । ऐसा करने से रोम छिद्र खुल जायेंगे और इसके बाद जहां - जहां काली कीलें हों उनके पास के भाग को टिशू पेपर या कॉटन से हल्का सा दबाएं । इसके बाद उन रोम छिद्रों को किसी लोषन द्वारा बंद कर देना चाहिये । डिस्टिल वाटर में बाइकार्बोनेट मिलाकर लगाएं इससे आश्चर्यजनक फायदा होता है । गरम शहद लगाने से भी काली कीलों से छुटकारा मिल जाता है । इन कीलों के लिये दूध भी उत्तम माना जाता है । गर्म पानी से चेहरा धोएं फिर गर्म दूध स्पंज से पूरे चेहरे पर लगाए बाद में  ठंडे पानी से चेहरा धो लें ।

चेहरे पर कीलों के लिये उबटन :- 25 ग्राम मुलतानी मिट्टी 100 ग्राम बादाम का चूरा, 50 ग्राम ग्लिसरीन इन सबका घोल बनाकर रख लें । इस मिश्रण को कील पर लगाने से फायदा होता है । यह रोज लगाना चाहिये ।

मुहांसे :- युवक-युवतियों के चेहरे पर मुहासों का निकलना एक साधारण सी बात है । उठती हुई युवावस्था में यह निकलते ही हैं । इनके निकलने का कोई निश्चित समय नहीं है । यह मुहांसे किसी को कम और किसी को ज्यादा निकलते है । किसी युवती को लंबे समय तक मुहांसे निकलते है और किसी को कम समय के लिये । मुहासों को रक्त में खराबी से नहीं समझना चाहिये और न ही किसी रोग या विकार के कारण निकलते है ।

वास्तव में यह तब होता है । जब लड़के-लड़कियाँ युवा होने लगते है । उस समय उनके शरीर में जो परिवर्तन आते है । उनमें एक परिवर्तन मुहासों का निकलना भी होता है ।

कील मुहांसे आदि के कारण चेहरे की शक्ल इसलिये बिगड़ जाती है क्योंकि बहुत से लोगों को यह ज्ञान ही नहीं होता कि इनसे रक्षा भी की जा सकती है । इससे वे इन्हें बढ़ने देते है । परंतु उन्हें यह पता नहीं होता है कि उम्र का यह वह समय है । जब उन्हें और अधिक खूबसूरत दिखना चाहिये और ऐसे समय त्वचा की देखभाल बहुत जरूरी होती है ।

कील - मुहासों का सबसे बड़ा कारण त्वचा में चिकनाई पैदा करने वाली ग्रंथियाँ का अधिक सक्रिय होना तथा अनियमित ढंग से काम करना है ।

चेहरे पर कील-मुहांसे निकलते हैं तो छोटी-छोटी फुसियां भी निकलती है और स्थिति बड़ी भयानक हो जाती है । ऐसी स्थिति में संक्रामण भी हो सकते है । यदि उनको नियंत्रित न किया जाए तो त्वचा में सैप्टिक हो जाता है । और त्वचा की अनेक समस्याएँ खड़ी हो जाती है । इसलिये कठिन स्थिति से बचने के लिये आवश्यक है कि आरंभ में ही उन्हें रोक दिया जाए ।

यदि थोड़ी सी सावधानी बरती जाए तो मुहासों की समस्या हल हो सकती है और चेहरे का सौन्दर्य भी कायम रह सकता है । शुष्क त्वचा पर मुहांसे नहीं निकलते हैं । इसलिये त्वचा को हमेशा बार-बार धोना चाहिये । जब भी आप आपकी त्वचा पर मुहासों का प्रभाव हो तो उन्हें छीले नहीं और न ही दबाएं । और न हाथ लगाए । अगर आप ऐसा करेंगे तो चेहरे पर दाग धब्बे पड़ सकते है । ऐसे समय में चेहरे पर भाप देनी चाहिये । भाप देने के बाद जब त्वचा के रोमकूप खुल जाएंगे तो हल्के-हल्के हाथ से रूई रखकर दबाएं । बाद में बर्फ मलने से खुले रोमकूप सिकुड़ कर बंद हो जायेंगे ।

मुहांसे निकलने पर पेट का ठीक तरह से साफ होना चाहिये । अगर कब्ज हो रही हो तो कब्ज की दवाई लेनी चाहिये । मुँहासों की शुरुआत होते ही ध्यान देना चाहिये । सबसे पहले गर्म पानी के छपाके लगाए फौरन ही ठंडे पानी के छपाके लगाए ।  ऐसा दिन में दो बार जरूर करने से मुँहासे में फायदा होता है ।

मुँहासों के लिये उबटन :-    1. प्याज को काटकर तेल में पकाए जब तक व पारदर्शी न हो जाए । भूनने के बाद ठंडी हो जाए तो मलमल के कपड़े में बांधकर चेहरे पर रगड़े ।  2. कपड़े धोने का साबुन भी मुँहासों को सुखाता है । 3. आंवले का चूर्ण पानी में भिगोए प्रात: काल इसे चेहरे पर मसले और थोड़ी देर बाद पानी से धो लें । 4. नीम की छाल को पानी में भिगोकर रख दें । 5 घंटे बाद पीसकर मुँहासों पर लगाएं । 5. सबसे आसान तरीका यह है कि बाजार में उपलब्ध एंटी सैप्टिक क्रीम टैरा माइसीन का इस्तेमाल कर सकते है ।

चेहरे पर झाईयों का प्रभाव :-

झाइयां :- यह कोई समस्या नहीं है । बल्कि सामान्य अवस्था का संकेत मात्र है । पोषण की कमी इसका प्रमुख कारण है । प्राय: स्त्रियों को गर्भावस्था में पर्याप्त पोषण तत्व न मिलने पर झाईयों उत्पन्न हो जाती है । कई बार अधिक देर तक जागने और पढ़ने आदि से होने वाली थकान के कारण भी आंखों के नीचे धब्बे और झाइयां पड़ जाती है । आंखें थके नही उसके लिये उचित प्रकाश की व्यवस्था करनी चाहिये और निद्रा भी भरपूर लेनी चाहिये।

        धूप से होने वाली झाइयां अस्थाई होती है  । किन्तु यदि वे समय के साथ पैदा हुई तो उन्हें ब्लीच करना आवश्यक है । ब्लीचिंग करने से वे खत्म हो जाती है । यदि आपकी त्वचा खुश्क है तो झाईयों को ब्लीच करने के बाद उन पर तेल अवश्य लगाना चाहिये और मालिश कर सकते है । कुछ समय में निरंतर उपचार करने से झाइयां दूर हो जाएंगी । झाईयों पर नींबू का रस इस्तेमाल कर सकती है । नींबू का रस 5 मिनट तक रगड़े फिर सूखने के बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें ।

झाईयों के लिये उबटन :- 1. चार चम्मच मूली के रस में 22 बूंदें सिरके की मिलाकर लगाएं । झाईयों के लिये यह प्रभावशाली लेप है । 2. कसी हुई मूली को दूध में पकाकर भी आप ब्लीच बना सकती है । 3. अगर झाइयां ज्यादा गहरी है तो चार चम्मच नींबू के रस में लगभग एक चुटकी बोरेक्स डालें । यह लोषन रात में सोते समय लगाएं सुबह चेहरा ताजे पानी से धो लें । यह झाईयों पर बहुत फायदा पहुँचाती है ।

 

दमा व श्वास का घरेलू उपचार त्वचा की देखभाल -1  | त्वचा की देखभाल -2 | चेहरे पर दाग व धब्बे |
 
साधारण त्वचा के लिये उबटन  |  
त्वचा की पहचान  |  मस्सों का प्रभाव दमा व श्वास का घरेलू उपचार  
 
दिल की बीमारियों के घरेलू उपचार | treatment of heart disease  | 
उच्च रक्तचाप
 
पीलिया का घरेलू उपचार | treatment of jaundice
|  पेट की बीमारियों के घरेलू उपचार | treatment of stomach
 
तुलसी का पौधा | तुलसी
से घरेलू उपचार

मस्सों का प्रभाव | चेहरे पर कील, मुँहासे, झाइयां, दाग, धब्बे

NOTE:- www.gkma.in  does not take any guarantee for the authenticity of the above information.
उक्त संकलन में यदपि पूर्ण सावधानी रखी गयी है तथापि किसी प्रकार की भूल चूक के लिये प्रकाशक या लेखक उत्तरदायी नहीं होगा
|
We are grateful for your valuable feedbacks. हम आपके बहुमूल्‍य प्रतिक्रियाओं के लिए आभारी हैं।
नोट- यहां दिये हुये सभी घरेलू उपचार हैं अत: बीमारी होने पर आयुर्वेदाचार्य / डॉक्टर से सलाह अवश्य लें |
 

विज्ञापन /Advertisement |

 
    इंटरनेट का बड़ा बाजार / Bada Bazaar on Internet  
 

 

आपके पास यदि कोई विधि है जिसे आप भेजना चाहतीं हैं तो लिखें-

 


 

link exchange

GK MARKETING & ADVERTISINGS:-3810/9A, KHAJANCHI NAGAR ADHARTAL, JABALPUR (MP) INDIA ,PIN-482004
जी.के.मार्केटिंग & एडवर्टाइजिंग,3810/9ए,खजांची नगर, अधारताल,जबलपुर ,भारत ,पिन कोड - 482004
E-MAIL-gkma_1@yahoo.com

वैधानिक चेतावनी / Caution